011 2618 4595

चीन में आर्थिक संकटः दुनिया के लिए भी खतरा

Admin November 22, 2021

बढ़ते वित्तीय जोखिमों पर अंकुष लगाने के लिए बीजिंग ने संपत्ति बाजार पर कड़े प्रतिबंध लगा दिए हैं। — विक्रम उपाध्याय

 

क्या चीन अपने ही बोझ से दबकर बिखर जाएगा। जनसंख्या में नंबर 1 की स्थिति हासिल करने वाला चीन आर्थिक ताकत के रूप में भी पहला स्थान हासिल करने की जल्दी में है। इस होड़ में चीन लगातार कर्ज की अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देता रहा है, बिना यह विचार किए कि एक दिन कर्ज का यह बोझ उसे ही डुबो सकता है। हाल के आकड़े बताते हैं कि चीन की कंपनियां और वहां के वित्तीय संस्थान अपनी देयता चुकाने में असफल हो रहे हैं। चीन की संपत्ति में गिरावट, ऊर्जा संकट, कमजोर उपभोक्ता मांग और कच्चे माल की बढ़ती लागत से प्रभावित चीन आर्थिक मंदी की चपेट में आता जा  रहा है। अनुमान है कि तीसरी तिमाही में चीन की आर्थिक वृद्धि 5 फीसदी से भी नीचे आ सकती है।

हालांकि चीन के प्रधानमंत्री के कियांग ने हाल ही में एक बयान जारी कर कहा कि चीन के पास मौजूदा बिजली संकट और उच्च कमोडिटी की कीमतों सहित देष के सामने आने वाली आर्थिक चुनौतियों से निपटने के लिए पर्याप्त तरीके हैं।

पिछले एक दषक में चीन का कर्ज नाटकीय रूप से बढ़ा है। ये कर्ज मुख्य रूप से चीन के सरकारी बैंकों द्वारा बड़े पैमाने निजी क्षेत्र की कंपनियों को दिए गए हैं ताकि वे वैश्विक वित्तीय संकट के बाद भी अमेरिका और यूरोप के देषों की कंपनियों के साथ प्रतिस्पर्धा में टिक सके। लेकिन अब ये कर्ज पहाड़ की तरह हो गए हैं जो  चीन की स्थिरता और यहां तक कि दुनिया के आर्थिक स्वास्थ्य के लिए खतरे का कारण बन रहे हैं।

चीन का कर्ज सकल घरेलू उत्पाद का 250 प्रतिषत से अधिक है, जो संयुक्त राज्य अमेरिका से अधिक है। यह दुनिया की सबसे अधिक कर्ज लेने वाले देष जापान से कुछ ही कम है। विषेषज्ञों का कहना है चीन का कर्ज उस वित्तीय संकट और वैश्विक आर्थिक मंदी का कारण बन सकता है। चीन के हुक्मरान चाहे जो कहें लगभग सभी बड़ी अंतर्राष्ट्रीय एजेंसियों का मानना है कि चीन आर्थिक संकट में है और उसकी विकास दर 5 फीसदी से भी नीचे है। नैटिक्सिस ने तीसरी तिमाही में 4.9 प्रतिषत की गिरावट की भविष्यवाणी की है तो स्टैंडर्ड चार्टर्ड बैंक और ब्लूमबर्ग के विष्लेषकों भी कहना है कि चीन में अर्थव्यवस्था का विस्तार औसत 5 प्रतिषत से नीचे ही होगा। एचएसबीसी ने कहा है कि चीन की शेष वर्ष में सकल घरेलू उत्पाद की वृद्धि 4-5 प्रतिषत की सीमा तक धीमी हो सकती है। रॉयटर्स ने अपने सर्वेक्षण में तीसरी तिमाही की जीडीपी 5.2 प्रतिषत रहने की भविष्यवाणी की है। इसके पहले चीन ने दावा किया था कि 2021 में उसकी विकास दर 7.8 प्रतिषत रहेगी।

चीन में दो बड़े संकट एक साथ खड़े हुए। एक तो उसकी सबसे बड़ी रियल एस्टेट कंप एवरग्रांडे बहुत बड़ी आर्थिक समस्या में घुंस चुकी है। वह अपने बांडों के ब्याज भुगतान तक नहीं कर पा रही है। उसके ग्राहक भाग रहे हैं और उसके स्पलायर उसे माल देना बंद कर चुके हैं। एवरग्रांडे के संकट के कारण चीन के कई बैंकों पर भी भारी दबाव आ गया है और वहां भी पेमेंट की समस्या शुरू हो चुकी है। इसके साथ ही चीन में अचानक बिजली का संकट खड़ा हो गया है। वहां शहर के शहर ब्लैक आउट के षिकार हैं। बढ़ते वित्तीय जोखिमों पर अंकुष लगाने के लिए, बीजिंग ने संपत्ति बाजार पर कड़े प्रतिबंध लगा दिए हैं। सितंबर की दूसरी छमाही के दौरान बिजली की कमी के कारण कारखानों को भी उत्पादन रोकने के लिए मजबूर होना पड़ा।

Share This